મંગળવાર, 13 ઑક્ટોબર, 2015

संगे मरमर

रंगो का तूफान संगे मरमर
सौगात और समजोता सभर
अनोखा बंधन आमने -सामने
कश्मकश रिश्ते आंखोके सितारे

आज ही आजाओ ना...कहोना ! अभी आ जाओ ना
वक्त मिला दे परिंदे और रोश्नी घरकी बन जाओ ना
लाया गया हुं तुम्हारे लिये इस जमीं पे कह भी दो ना
सहमे शीकवे शीशोंकी मुराद लिये अब लौट आओ ना
----रेखा शुक्ला

2 ટિપ્પણીઓ: